आपकी फोटो से हमारी साइट सुशोभित होगी
लॉगिन करें | साइन अप करें
होम वजन घटाना डाइटीशियन आरुषि जैन की 25 टिप्स

क्या आप किसी भी उम्र में 15-20 किलो वजन घटाना चाहती हैं? ये उतना कठिन नहीं है जितना आप समझती हैं

अरुशी जैन: हैलो! आज हम एक सेहतमंद तरीके से वजन घटाने के बारे में बात करेंगे। ये हर कोई किसी भी उम्र में कर सकता है। आज हम इस बारे में भी बात करेंगे कि मोटापे से लड़ी गई कड़ी लड़ाई से क्या हो सकता है।

अरुशी जैन: हाल ही में एक प्रोग्राम में हमने डाइटोलॉजी प्रोफेसर रघु नाथ से वजन घटाने के तरीकों के बारे में बात की। दुर्भाग्य से दुबले होना चाह रहे कई लोगों ने हमारी टिप्स को उचित तरीके से इस्तेमाल नहीं किया जिससे उनके नतीजे बिगड़ गए और हम आज इसी के बारे में बात करेंगे।

अरुशी जैन: जैसा कि आप अभी तक अंदाजा लगा ही चुके होंगे, आज हम एनोरेक्सिया से बचने के बारे में बात करेंगे, एनोरेक्सिया एक ऐसा तरीका है जिसे लोग दुबले होने के लिए इस्तेमाल करते हैं। एक डॉक्टर और डाइटीशियन श्री रघु नाथ आज हमें इस सब के बारे में विस्तार से बताएँगे:

रघु नाथ: आम तौर पर एनोरेक्सिया डाइट वो डाइट होती हैं जिनसे लड़कियाँ दुबले होने के लिए अपने आप को काफी तकलीफ़ देती हैं। लेकिन सिर्फ ये ही एकमात्र कारण नहीं होतीं।

अरुशी जैन: इस तरह की डरावनी डाइट के पीछे क्या कारण हो सकता है?

रघु नाथ: जैसा कि आप जानते हैं, Green Coffee के हमारे रिलीज़ के दो महीने के अंदर ही हमें ऐसी महिलाओं से शिकायतें आने लगीं जिन्होने जरूरत से ज़्यादा वजन घटा लिया था और अब उन्हें समझ नहीं आ रहा था कि अपने कुपोषित शरीर को कैसे ठीक करें।


ये देखिए एक ऐसी ही लड़की की फोटो जिसने हमसे सलाह ली थी और हमारा वह प्रोग्राम भी देखा था जिसमें हमने बताया था हमारा जादुई प्रोडक्ट Green Coffee

रघु नाथ: असल में बात यह है कि Green Coffee आज के दिन डाइटोलॉजी में सबसे शक्तिशाली और प्राकृतिक वसा-नाशक है।

मुख्य समस्या यह है कि जिन महिलाओं को एनोरेक्सिया हो गया उन्होने Green Coffee दानों के रूप में ली थी और कोई भी व्यक्ति यदि इस तरह की डाइट लेता ही जाए तो असर काफी शक्तिशाली हो सकता है। चलिए, अब जो हो गया वो आपके सामने ही है, जिन महिलाओं का वजन 100-120 किलो हुआ करता था वो 60 दिनों के अंदर 30 किलो की सूखी टहनियाँ बन कर रह गईं!

अरुशी जैन: बड़े दुख की बात है कि इस तरह के असरदार प्रोडक्ट को कुछ महिलाओं ने इस नुकसानदेह तरीके से इस्तेमाल किया। लेकिन फिर भी मैं जानना चाहूंगी कि इस तरह के चौंका देने वाले असर का कारण आखिर क्या है?

रघु नाथ: आपने बहुत अच्छा सवाल पूछा। एक ऐसा सवाल जिसका जबाब मैं विस्तार से देना चाहूँगा। Green Coffee एक पूरी तरह से नैचुरल प्रोडक्ट है जो शरीर के मैटाबॉलिज़्म को नैचुरल तरीके से तेज करता है , इसमें कोई भी कृत्रिम पदार्थ नहीं होते! इसे लेने वाले व्यक्ति के जीवन की गति बढ़ जाती है और ऊर्जा कई गुना ज़्यादा जलने लगती है, और इसी कारण से वसा जलने लगती है। यही नहीं, Green Coffee :

- एक ऐसा तरीका भी है जिससे आसानी से रात को लगने वाली भूख कंट्रोल में रखी जा सकती है। ये ग्लाइकोजेन को सिंथेसाइज़ (संश्लेषित) करती है जिसे मस्तिष्क को "मेरा पेट भरा है", ऐसा संकेत जाता है और व्यक्ति को कुछ खाने की इच्छा ही नहीं होती।

- इससे शरीर पुनर्जीवित और शुद्ध होता है। इसमें पाए जाने वाले शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट्स से कोशिकाओं का पुनर्निमाण काफी तेज गति से होता है और शरीर के अंदर के सारे जहरीले पदार्थ और मैल बाहर बह जाते हैं।

- हॉरमोनल बैकग्राउंड और एंडोक्राइन सिस्टम को ठीक करती है। प्रेगनेंसी या रजोनिवृत्ति के बाद हो गई हॉर्मोनल गड़बड़ियों से होने वाले मोटापे या के केस में भी इससे वसा जलती है।

अरुशी जैन: इस प्रोडक्ट में वाकई में बड़े अनोखे गुण हैं। लेकिन इस तरह के प्रोडक्ट के साथ उन लोगों को क्या सावधानियाँ बरतनी चाहिए जो दुबला होना चाह रहे हैं?

रघु नाथ: जैसा मैंने पहले बताया था: सबसे गलत चीज है डाइट करना और Green Coffee भी साथ में लेना, इस प्रोडक्ट के साथ डाइटिंग नहीं करनी चाहिए क्योंकि आपकी वसा बिना कुछ किए भी वैसे ही चली जाएगी। हमारे शरीर को खाने से मिलने वाले महत्वपूर्ण खनिजों और विटामिनों की जरूरत होती है।

अरुशी जैन: हाल ही में मैंने कई ऐसे घटिया प्रोडक्ट्स के बारे में सुना है जिन्हें वजन घटाने का प्रोडक्ट बता कर बेचा जाता है। क्या आप हमें Green Coffee के बारे में और बता सकते हैं?

रघु नाथ: कॉफी प्राकृतिक रूप से इथियोपिया, भारत, ब्राज़ील और कोलम्बिया में उगाई जाती है। इसके कच्चे दानों में शक्तिशाली वसा-नाशक पदार्थ, विटामिन और खनिज एक ऐसी सटीक मात्राओं में मिश्रित होते हैं जो एक असरदार और सुरक्षित वजन घटाने के लक्ष्य के लिए जरूरी होते हैं। Green Coffee ही एक ऐसा प्रोडक्ट है जिसमें इतनी प्रचुर मात्रा में वसा-नाशक पदार्थ, विटामिन और खनिज पाए जाते हैं कि इससे पदार्थों का आदान-प्रदान तेज हो जाता है और इसका नतीजा यह होता है कि इससे बड़ी तेजी से वजन कम हो जाता है।

दुबले होने के अनहैल्दी तरीकों के कारणों की वापस बात करें तो मैं तो यही कहूँगा कि जब लोगों को वजन घटाने का इतना आसान और झटपट तरीका मिल जाता है तो लोग "पागल" हो जाते हैं। ऐसा शब्द इस्तेमाल करने के लिए क्षमा चाहता हूँ लेकिन चूंकि लोगों का वजन इतनी तेजी से लाइफ में पहले कभी घटा ही नहीं हुआ होता और सब ये सोचते हैं कि और घटा लूँ। और जब तक लोगों को समझ में आता है, तब तक बहुत देर हो चुकी होती है।


अरुशी जैन: महर्षि जी मैं आपसे पूरी तरह सहमत हूँ और आज कितनी ऐसी महिलाएं हैं जो इस समस्या से जूझ रही हैं। लेकिन दुबले होना चाह रहे लोगों को आप क्या सलाह देंगे और उन्हें ऐसा क्या करना चाहिए कि वो इस समस्या से दूर रह सकें?

रघु नाथ: इस केस में सबसे असरदार तरीका होता है गोल-सेटिंग या लक्ष्य बना कर काम करना: शुरू में ही तय कर लें कि आपको कितने तक वजन कम करना है! मान लीजिए आपका वजन 80 किलो है और आप 55 की होना चाहती हैं। अपने इस लक्ष्य को पाने के लिए, आपके मैटाबॉलिज़्म के हिसाब से, आपको डेढ़ महीने तक ही Green Coffee लेनी होगी, उससे ज़्यादा नहीं। ऐसे में सिर्फ डेढ़ महीने तक ही इसे पिएँ और सब-कुछ सामान्य रूप से खाते रहें, और जब आपका वजन 55 किलो हो जाए तो Green Coffee लेना बंद कर दें। हाँ, और यदि आप अपने लक्ष्य तक नहीं पहुँच पाती हैं तो इसे लेना जारी रखें। इस तरह से आप अपने लक्ष्य तक पहुँच जाएंगी और अति भी नहीं होगी।

रघु नाथ: आप एकदम नॉर्मल खाना खा सकते हैं और खाना भी चाहिए: विभिन्न तरह के खाने नॉर्मल मात्रा में खाते रहें ताकि भूख न लगे। Green Coffee से आप डाइटिंग किए बगैर ही वैसे भी वजन घटा लेंगीं।

अरुशी जैन: हमें यह भी बताया गया है कि मार्केट में पहले भी नकली प्रोडक्ट आए हैं, तो गर्गजी, Green Coffee के दानों का असली सत्त कहाँ मिल सकता है और हमें नकली प्रोडक्ट खरीदने के खतरे से कैसे बचना चाहिए?

रघु नाथ: Green Coffee को भारत में सर्टिफ़िकेशन मिल चुका है और दवाई की दुकानों के बजाय इसे पाने का सबसे भरोसेमंद तरीका होता है इसे ऑफिशियल सप्लायर की साइट से खरीदना । यही क्वालिटी की गारंटी होती है और नक्कालों से बचने का सबसे बढ़िया तरीका होता है।

अरुशी जैन: हमने अभी तक Green Coffee को लेने के सही तरीके की बात नहीं की है, इसे खाली पेट लेना चाहिए या खाने के बाद?

रघु नाथ Green Coffee को दिन में दो बार लेना ही चाहिए, एक बार सुबह और एक बार शाम। इसे खाने के पहले या बाद में लिया जा सकता है क्योंकि हमने दोनों ही तरीकों में कोई खास फर्क महसूस नहीं किया। अरुशी जैन: तो मैं तो यही कहूँगी कि इसे लेकर आप अपने दुबले होने के सपने को पूरा कर सकते हैं और मैं एक बार फिर याद दिलाना चाहूंगी कि:

वो लोग जो वजन घटाना चाहते हैं, उन्हें सिर्फ दो सिद्धांतों को याद रखने की जरूरत है। पहला, वजन कम करने के लिए जरूरी कदम जितनी जल्दी हो सके उठाएँ, आप कल और परसों के लिए टाला-मटोली नहीं कर सकते। आपको आज से ही शुरू करना होगा। दूसरी चीज ये है कि असरदार तरीके से वजन कम करने के लिए Green Coffee उतनी ही मात्रा में लेनी चाहिए जितने की विशेषज्ञ सलाह देते हैं।


दूसरे डॉक्टरों की कमेंट्स:

डॉ पी एस रघुराम एक डॉक्टर, डाइटीशियन और प्रोफेसर हैं और न्यूट्रिशन एवं डाइटोलॉजी लैब में काम करते हैं

" 20 साल तक एक विशेषज्ञ के रूप में काम करने के बाद आज मैं आपको इतना तो पक्के में कह सकता हूँ: देश में आज के दिन में लोकप्रिय वजन कम होने के तरीके, मोनोडाइटें, और अपने आपको घंटों एक्सर्साइज़ करके टॉर्चर करना, ये सब आप और आपकी सेहत पर बुरा असर डालते हैं! मैं मानता हूँ कि इन सबसे कुछ समय के लिए तो असर होता है लेकिन इस वजह से आपको अवयवों का "मृत" आदान-प्रदान मिलता है।

वजन घटाने और भविष्य में न बढ़ने देने के लिए मैटाबॉलिज़्म का बहुत तेज होना बेहद जरूरी होता है।

Green Coffee में ऐसे प्राकृतिक पदार्थ होते हैं जो आदान-प्रदान की क्रिया को 5-7 गुना तक बढ़ा देते हैं। इससे शरीर तेजी से जमा की हुई चर्बी को इस्तेमाल कर लेता है और नई चर्बी नहीं जमने देता। मेरा मानना है कि आज के दिन Green Coffee ही सेहतमंद तरीके से दुबले होने का एक मात्र असरदार तरीका है

न्यूट्रिशन और डाइटोलॉजी रिसर्च लैब में हमने Green Coffee के गुणों पर कई शोध किए हैं।

45 दिन के एक शोध में, जिसमें सहभागियों का एक ऐसा ग्रुप लिया गया जिसमें 17 लोग थे और इन सभी का वजन आदर्श से 10 किलो ज़्यादा था। इस शोध में निम्नलिखित परिणाम मिले:

1. टेस्ट किए गए पूरे ग्रुप में सभी लोगों के वजन में 7 से लेकर 29 किलो तक की कमी देखी गई
2. टेस्ट किए गए लगभग 97% लोगों के आत्मविश्वास और रवैये में सुधार देखा गया
3. लिवर और पैंक्रियास ग्रंथि के काम करने के तरीके में अत्यधिक सुधार हो गया
4. इस के परिणामस्वरूप, शरीर में आदान-प्रदान की प्रक्रिया में सुधार हुआ

उम्र, सेहत की स्थिति या लिंग से स्वतंत्र सभी को सकारात्मक परिणाम मिले। इस दवा को एक प्राकृतिक वसा-नाशक के रूप में उपयोग करने की सलाह दी जाती है।

किसी भी तरह की जानकरी के लिए संपर्क करें - 8178552686

ऑर्डर दें

हमारे पाठकों के रिव्यू:


  • एक कमेन्ट छोड़ें
    यदि आप कमेन्ट के साथ फोटो डालना चाहते हैं तो साइन-अप करें


    आपकी फोटो से साइट और भी बेहतर होगी
    साइन-इन करें साइन-अप करें
    कैटेगरीज़